डीएनए का फुल फॉर्म क्या हैं? – DNA Full Form in Hindi

डीएनए का फुल फॉर्म क्या हैं? DNA Full Form in Hindi: डीएनए के बारे में गूगल पर काफी ज्यादा सर्च किया जाता हैं, जिस तरह आप सर्च करके आए हैं। यदि आपका समस्या डीएनए के विषय में जानकारी प्राप्त करना हैं, तो हम आपके समस्या का निवारण करेंगे। आजके इस लेख में आपको DNA से संबंधीत बहोत जानकारियां ज्ञात होने वाला हैं।

जैसे, DNA Full Form in Hindi, DAN क्या होता हैं?, DNA की खोज किसने की?, और DNA Test क्या होता हैं। इसके अतिरिक्त आपको ओर भी डीएनए के बारे में इंफॉर्मेशन मिलने वाला हैं।

वैसे आपलोगो को बता दें की DNA प्रत्येक जीवित कोशिकाओं में पाई जाती हैं। और आपके जानकारी के लिए बता दें कि विज्ञान इतना तरक्क़ी कर चुके हैं कि DNA के द्वारा मनुष्य के जटिल से जटिल समस्यों का निवारण किया जा सकता हैं। दरअसल डीएनए की समक्षता के कारण, आपने ऐसे कई बार सुना होगा, की उस बच्चे की आंखे बच्चे की माता या पिता के जैसी ही हैं वास्तव में ये DNA की वजह से होते हैं।

DNA Full Form in Hindi | DNA का फुल फॉर्म क्या हैं।

DNA Full Form in HindiDeoxyribonucleic Acid
DNA हिंदीडिऑक्सीराइबो न्यूक्लिक अल्म
डीएनए की खोजवर्ष 1953
DNA की खोज करने वालाजेम्स एवं फ्रांसिस क्रिक
DNA Test Price5,000 To 50,000

DNA क्या होता हैं?

यदि आपलोगो को साधारण भाषा में बताऊं, कि DNA क्या हैं, तो आपको बता दें कि प्रत्येक जीवित कोशिका में पाया जाने वाला तंतुनुमा अणु को डीएनए कहा जाता हैं। और इसे डिऑक्सीराइबो न्यूक्लिक अल्म नाम से भी जाना जाता हैं। DNA जीवित कोशिकओं में पायी जाने वाली सीढ़ी के जैसे घुमावदार होती हैं। डीएनए में अनुवांशिक गुण भी उपस्थित होते हैं और इतना ही नही, जितने भी जीवित कोशिका हैं उन सबमें DNA होते हैं, और हर एक का भिन्न भिन्न होते हैं, तथा कोशिकाओं में प्रोटीन बहोत जरूरी तत्व होती हैं।

DNA

DNA हर व्यक्ति के उनके माता-पिता से 23 जोड़े DNA प्राप्त होता हैं, हर किसी इंसान के DNA उसके माता-पिता के डीएनए के मिश्रण से बना हुआ होता हैं, 23 जोड़े डीएनए में से एक माता के द्वार एवं एक पिता के द्वारा उसे प्राप्त होता हैं। यही वजह है कि अधिकतर बच्चो का लक्षन उनके माता-पिता से मिलता जुलता हैं। जैसे किसी के आंखे, बलो का रंग तथा चमरी का रंग इत्यादि होते हैं।

DNA की खोज विज्ञानिको द्वारा की गई थी, वर्ष 1653 में जैम्स एवं फ्रांसिस क्रिक दो वैज्ञानिक ने DNA की खोज किया था, तथा उन्हों इस खोज के लिए वर्ष 1962 में नोबेल पुरूष्कार से सम्मानित भी किया गया था। आपके जानकारी हेतू बता दूं कि 1 ग्राम डीएनए में 700 Terabyte तक की जानकारी स्टोर कर सकता हैं। DNA मॉलिक्यूल होता है जिसमे सभी जीवों के जेनेटिक कोड होते हैं।

DNA Full Form in Hindi – क्या हैं DNA का फुल फॉर्म

Deoxyribonucleic Acid होता हैं DNA का फुल फॉर्म, और इसे हिंदी में “डिऑक्सीराइबो न्यूक्लिक अल्म” कहा जाता हैं। DNA ऐसा अणु है जो चार प्रकार के न्यूक्लियोटाइड से मिल करके बना हुता हैं, और डिऑक्सीराइबो न्यूक्लिक अल्म कभी भी मरता नही हैं, ये अमिट (अमर) होता हैं एक पीढ़ी से दुसरी पीढ़ी में Transfer होता रहता हैं। न्यूक्लियोटाइड कुल 4 प्रकार के होते है न्यूक्लियोटाइड एडिनीन, साइटोसिन, थाइमिन और ग्वानिन।

ये सभी आपस में एक फॉस्फेट अणु द्वारा जुड़े हुआ होता हैं। यह एक ऐसा अणु है जो कि अनुवांशिक जानकारियों को पीढ़ी दर पीढ़ी पहुँचाने का कार्य करती है, डिऑक्सीराइबो न्यूक्लिक अल्म ऐसा सर्पिलाकार अणु है जिसमे हर व्यक्ति का भिन्न आनुवंशिक कोड पायी जाती है, व्यक्ति के डीएनए में लगभग 3 बिलियन बेस मौजूद होते हैं।

DNA के प्रकार – Type of DNA

क्या आप जानते है कि हमारे शरीर में हर रोज 1 हजार से लेकर लगभग 10 लाख तक के आस-पास डीएनए निर्माण होता हैं एवं लगभग इतना ही डीएनए हमारे शरीर से खत्म भी हो जाते हैं। चलिए इसके प्रकार के विषय में अब बात कर लेते हैं, डीएनए के मुख्य रूप से तीन प्रकार होते हैं।

  • A -DNA: ये डीएनए आपदा में DNA की रक्षा निर्धारित करता हैं। A प्रकार के डीएनए जो राइट साइड कुंडलित होता हैं।
  • B- DNA: B प्रकार के डीएनए समान्य DNA होता हैं। परंतू ये भी राइट साइड ही कुंडलित होते हैं।
  • Z- DNA: ये बायीं साइड कुंडलित होता हैं।

DNA की संरचना – Structure of DNA

फ्रैंकलिन, विल्कन, वाटसन, क्रिक और फ्रैंकलिन के अनुसार DNA में न्यूक्लियोटाइड्स या फॉस्फेट, शर्करा तथा नाइट्रोजनस बेस के बीच के बंधन से बनी दो श्रृंखलाएं होती हैं। फॉस्फेट एवं शर्करा रूप में न्यूक्लियोटाइड अणु आपस में एक दुसरे से बंधे होते हैं। आपके जानकारी के लिए बते दें की एक कोशिका में DNA जो प्राप्त होता हैं, उसकी लम्बाई लगभग 6 फुट से अधिक हो सकती है। DNA में तिन बिलियन से ज्यादा बेस होते हैं। जैसा की आप जान चुके हैं DNA एक पीढ़ी से दुसरे पीढ़ी में ट्रांसफर होता रहता हैं, एवं इसके द्वारा ये भी जानकारी प्राप्त किया जा सकता है कि आने वाले पढ़ी में क्या परिवर्तन होगा।

डीएनए की खोज कब और किसने किया था?

इसका स्रोत जेम्स और फ्रांसिस क्रिक वैज्ञानिक को जाता हैं वर्ष 1953 में इन्होने DNA की खोज किया था, और इसके लिए इसे वर्ष 1962 नोबेल पुरूष्कार से सम्मानित भी किया था।

DNA के कार्य

  • इसी के वजह से अनुवांशिक के बारे में जानकारी प्राप्त किया जा सकता हैं, DNA एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी में स्थानांतरित होता रहता है
  • इसी के द्वारा कोशिकाओं में सूचनाओं को लंबे समय के लिए शुरक्षित रखा जाता है और उन जानकारी का प्रयोग कई रहस्यों के विषय में पता करने में किया जाता है।
  • DNA फिंगरप्रिंटिंग
  • उत्तराधिकार

DNA टेस्ट क्या हैं

आपलोगो ने DNA Test के बारे में कही न कही जरूर सुना होगा, आज हम आपको इस विषय में विस्तारपूवर्क बताते हैं। डीएनए टेस्ट केवल एक ही प्रकार के नही हैं वर्तमान काल में विज्ञान में डीएनए के लगभग 1200 तरह के टेस्ट उपलब्ध हैं डीएनए टेस्ट इंसान में मूत्र के सैंपल, गाल के अंदर की कोशिकाएं, बालों, खून एवं त्वचा इत्यादि की हेल्प से किया जा सकता है, DNA की जांच केवल मान्यता प्राप्त प्रयोगशालाएं की द्वारा ही किया जाता हैं तथा जांच की रिपोर्ट 10 से 20 दिनो के अंदर दिया जाता हैं। यदि जांच के कीमत की बात की जाई, तो 5,000 से 50,000 रूपये लिया जाता हैं परंतू यह जांच पर निर्भर करता हैं वर्तमान में 1200 तरह के डीएनए टेस्ट उपस्थित हैं।

DNA का महत्व क्या हैं?

डीएनए का महत्व काफी ज्यादा हैं DNA खोज के बाद इसका महत्व केवल मेडिकल क्षेत्र में ही नही है बल्कि कृषि, फॉरेंसिक जांच और कानूनी जांच इत्यादि में महत्वपूर्ण भूमिका हैं, कई अपरोधों को सुलझाने में इसका बहुत बड़ा योगदान हैं और इसके अतिरिक्त ये भी पता लगाया जा सकता हैं, कि किसी बच्चे के माता-पिता कौन हैं या इसके सगे-संबंधी वाले लोग कौन हैं। मेडीकल क्षेत्र में DNA Test की मदत से अनुवांशिक बीमारीयो की पहचान करके उसकी आने वाली अगली पीढ़ी के लिए निवारण के लिए भी प्रयास किया जाता हैं।

डीएनए से प्रोटीन कैसे बनती हैं?

आइए जानते हैं कि इससे प्रोटीन कैसे बनती हैं, RAN के द्वारा, डीएनए से विशिष्ट प्रोटीन प्रसारित किये जाते है, आपको बताये की जीन नाभिक में पाए जाते हैं तथा प्रोटीन संश्लेषण के लिए ही जिम्मेदार होते हैं। और प्रोटीन के निर्माण में न्यूक्लियोटाइड का भी अत्यंत सहायक होता है।

DNA का फूल फॉर्म पर वीडियो देखे-

पूछा गया प्रश्न (FAQ)

डीएनए का मतलब क्या होता हैं

DNA जीवित कोशिकाओं के गुणसूत्रों में पाए जाने वाला अणु हैं और इसे डिऑक्सीराइबोन्यूक्लिक अम्ल से भी संबोधीत किया जाता हैं।

डीएनए टेस्ट का क्या अर्थ हैं

DNA Test एक तरह के मेडिकल टेस्ट होता है जो गुणसूत्रो, प्रोटीन और जीन्स में हो रहे बदलावो को पहचान कराता हैं

डीएनए की खोज कब हुई थी

साल 1953 जेम्स और फ्रांसिस क्रिक वैज्ञानिक ने किया था, और 1962 में इसे नोबेल पुरूष्कार से सम्मानित भी किया गया था

डीएनए टेस्ट कराने में कितना खर्चा लगता हैं

ये निर्भर करता हैं की आप किस तरह के DNA टेस्ट करा रहे हैं क्योकि वर्तमाल में 1200 प्रकार डीएनए टेस्ट Available हैं। डीएनए Test का कीमत 5,000 से 50,000 तक लिया जाता हैं।

निष्कर्ष

हमे उम्मीद है की ये आर्टिकल आपके लिए उपयोगी हुआ होगा, DAN Full Form in Hindi और DNA Ka Full Form Kya Hai। हमारा हमेशा से यही प्रयास रहता हैं की हम Readers को DNA का फुल फॉर्म क्या होती हैं के विषय में सम्पूर्ण जानकारी यही पर मिल जाए, ताकि आपको कही ओर जाकर, Search करना ना पड़े।

यदि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी से सीखने को मिली हो तो आप अपना प्यार बनाए रखें। इस लेख में कुछ त्रुटी लगी हो, जिसे आपके अनुकूल होनी चाहिए, तो आप हमे कमेंट करके बता सकते हैं हम आपके मुताबिक उस जानकारी को इस लेख में शामिल कर देंगे।

मेरा नाम सुनिल पासवान है और मै InHindiGyan.com का संस्थापक एवं कंटेंट राइटर हुॅ मुझे इंटरनेट, बिजनेस, पैसे कैसे कमाए एवं क्रिप्टोकरेंसी के बारे में लिखने मे काफी ज्यादा दिलचस्प है और इन विषय पर लोगो तक सही जानकारी पहुंचाना ही मेरा एक मात्र उद्देश्य है।

Leave a Comment